बापू हरभगवान जी प्रवचन प्रवचन

बापू हरभगवान जी प्रवचन प्रवचन

ओम ओम है आखदा दिल मेरा
श्री ओम नारायण कहलान वाले
तुसी दीन दयाल कृपाल साडे
साडे दिलां दी आस पुजान वाले
साडे सिर थे हरनाम जी दा हथ होवे
हरी नाम दा रंग च-सजय़ान वाले
श्रद्धाराम जी ओन्हा नू तार देंदे
श्रद्धा नाल जेड़े ऐथे आन वाले
माता इशरां दे सोन्हे लालना वे
तेरे जेहा न माई दा लाल कोई
सारे जग दा चन्न विच नूर भरया
तेरे ना दी नही मिसाल कोई
नन्दाचैर जो जग ते सजाया तू
इस जेहा न जग ते द्वार कोई
तेरे ओम मंदिर जैसा नही मंदिर
देखो धरती आकाश दी भाल कोई

जे कर आखां ठाकुर नज़र आवे
विच ठाकुरां आप सरकार तूं है
जे कर कहां तैनु बापू सिंह ज्वाला

मैनु दिसदी ओम सरकार तूं है
जेकर कहां मैं सिंह अरुड़ बाबा
श्री गुरु हरनाम अपरमपार तू है
ऐन्हा सारयां दी इको ज्योत लै के
श्रद्धाराम जी आप दातार तू है।

ओम बापू श्रद्धाराम जी महाराज आप की सदा
ही जय।।

Author Info

OmNandaChaur Darbar

The only website of OmDarbar which provide all information of all Om Darbars
%d bloggers like this: