Akelaapan v/s Aikaant from the Gita

Akelaapan v/s Aikaant from the Gita

Akelaapan v/s Aikaant from the Gita

Akelaapan v/s Aikaant from the Gita

Here goes a humble translation

Loneliness v/s Solitude

‘अकेलापन’ इस संसार में सबसे बड़ी सज़ा है.!
और ‘एकांत’
इस संसार में सबसे बड़ा वरदान.!!

Loneliness is the biggest punishment in this world!
And Solitude is the biggest gift/blessing!!

ये दो समानार्थी दिखने वाले
शब्दों के अर्थ में
. आकाश पाताल का अंतर है।

These two words appear so similar, yet cannot be more apart, like heaven and hell!

अकेलेपन में छटपटाहट है
तो एकांत में आराम है।

Loneliness is suffering, and Solitude is relaxing!

अकेलेपन में घबराहट है
तो एकांत में शांति।

Loneliness is fear and solitude is Shanti/peace!

जब तक हमारी नज़र
बाहरकी ओर है तब तक हम.
अकेलापन महसूस करते हैं

Till we look for solace in the outer world we will experience Loneliness!

और
जैसे ही नज़र भीतर की ओर मुड़ी
तो एकांत अनुभव होने लगता है।

But when you look for it within you, you start experiencing solitude!

ये जीवन और कुछ नहीं
वस्तुतः
अकेलेपन से एकांत की ओर
एक यात्रा ही है.!!

This life is nothing but a journey from loneliness to solitude!

ऐसी यात्रा जिसमें
रास्ता भी हम हैं, राही भी हम हैं
और मंज़िल भी हम ही हैं.!!

A journey, in which the path is us, the traveler is also us and so is the destination!!

Author Info

OmNandaChaur Darbar

The only website of OmDarbar which provide all information of all Om Darbars
%d bloggers like this: