Mere Sir Te Mera Bapu Hai – Bhajan

मैं कर्मा वाली हां मेरे सिर ते मेरा बापू है।
मैं भागां वाली हां मेरे सिर ते मेरा बापू है।
मैं क्यों कमजोर पवां मेरे सिर ते मेरा बापू है।

नहीं मुश्किल विच घबरांदी, नहीं सुख विच मैं इतरांदी
सब कुछ बापू ते झडके, मैं अपनी मौज बनाई है

मैं कर्मा वाली हां मेरे सिर ते मेरा बापू है।
मैं भागां वाली हां मेरे सिर ते मेरा बापू है।
मैं क्यों कमजोर पवां मेरे सिर ते मेरा बापू है।

जद नाल है बापू सोना कोई जादू चले ना टोना
ओ नजर नहीं लग सकती धागा मैं उसदा पाया है

मैं कर्मा वाली हां मेरे सिर ते मेरा बापू है।
मैं भागां वाली हां मेरे सिर ते मेरा बापू है।
मैं क्यों कमजोर पवां मेरे सिर ते मेरा बापू है।

जद बापू सिर ते होवे दुख मीलों दूर खलोवे
कम बन जांदे ने आपे दूरों टल जांदी आई वे

मैं कर्मा वाली हां मेरे सिर ते मेरा बापू है।
मैं भागां वाली हां मेरे सिर ते मेरा बापू है।
मैं क्यों कमजोर पवां मेरे सिर ते मेरा बापू है।

खैरां झोली विच पावे भगड़ा नू शाह बनावे
कली मैें नहीं कैंदी, कैंदी ऐ कुल खुदाई वे

मैं कर्मा वाली हां मेरे सिर ते मेरा बापू है।
मैं भागां वाली हां मेरे सिर ते मेरा बापू है।
मैं क्यों कमजोर पवां मेरे सिर ते मेरा बापू है।

प्रेम से बोलो, जय बापू दी……..

Mere Sir Te Mera Bapu Hai

Author Info

OmNandaChaur Darbar

The only website of OmDarbar which provide all information of all Om Darbars
%d bloggers like this: